Rochak News: कर्मचारी ने खुद के पैसों से फ्यूल भरकर की थी महिला की मदद, खुश होकर महिला ने दिया यह इनाम

 
rochak

बिना किसी लालच के किसी की सहायता करना ही मानवता है। इसी मानवता को दक्षिण अफ्रीका की एक घटना ने साबित कर दिया है, जहां एक गैस कर्मचारी ने खुद के पैसों से एक आश्रित महिला की गाड़ी में 5 पाउंड (440 रुपये) का फ्यूल भरकर उसकी मदद की। बता दें कि मामला केपटाउन का है, जहां बाहरी इलाके में स्थित एक गैस स्टेशन पर 21 वर्षीय मोनेट वान डेवेंटर नाम की महिला अपनी गाड़ी में फ्यूल भरवाने आयी थी। परन्तु जब उसने अपनी गाड़ी में देखा तो उसके पास क्रेडिट कार्ड, पर्स पैसे कुछ भी नही थे, वो अपना क्रेडिट कार्ड और पैसे घर ही भूल आयी थी।

बता दें कि मोनेट को आगे जिस रास्ते से जाना था, वह रास्ता काफी सुनसान था। इसके अलावा वहां खूंखार गैंग का भी ठिकाना था। ऐसी स्थिति में गाड़ी में फ्यूल भराना बेहद जरूरी था। मोनेट को डर था कि रास्ते में उनकी कार का फ्यूल खत्म हो सकता है। इन सब परिस्थितियों को देखते हुए गैस कर्मचारी मबेले ने अपने खुद के पैसों से महिला की कार की टंकी को तेल से फुल कर दिया। आपको बता दें की मबेले के इस काम की पूरे दक्षिण अफ्रीका में तारीफ हो रही है।


 

महिला ने मबेले के इनाम के लिए अभियान चलाया :

महिला ने इस बात से खुश होकर मबेले के इनाम के लिए सोशल मीडिया प्लेटफार्म फेसबुक का सहारा लेकर पैसे जुटाने का अभियान चलाया और इस अभियान के जरिए उसने मबेले के लिए साढ़े 23 लाख रुपये जुटाए। जो कि मबेले की 8 साल की तनख्वाह के बराबर थे। इस इकट्ठी की गई धन राशि को देने के लिए महिला मबेले के घर गयी परन्तु उन्होंने इतनी ज्यादा रकम लेने से मना कर दिया।

मबेले ने मोनेट की कही बात मान ली :


महिला के मुताबिक उसने गैस कर्मचारी मबेले से कहा कि मेरी कार में फ्यूल खत्म होने वाला है और कार में फ्यूल भरवाना बेहद जरूरी है परन्तु मैं अपना पर्स और क्रेडिट कार्ड घर भूल आयी हूं। महिला की बात को सुनकर मोबेल ने कहा मैडम यह रास्ता काफी सुनसान है और आपको घर जाकर पैसे लाना सही नही है इसलिए मैं अपने खुद के पैसों से आपकी गाड़ी में फ्यूल भर दूँगा आप मुझे फिर कभी पैसे दे देना जब इस रास्ते से गुजरें।

मबेले के घर पैसे वापस करने गयी मोनेट :

बता दें की मबेले द्वारा अपने खुद के 440 रुपये से मोनेट की कार में भरे फ्यूल के पैसे और फेसबुक पर अभियान चलाकर जुटाए गए साढ़े 23 लाख रुपये लेकर महिला जब मबेले को देने उसके घर गई तो इतनी ज्यादा धन राशि को मोबेल ने लेने से मना कर दिया क्योंकि उसे डर था कि इतने पैसे कहीं चोरी ना हो जायें। इसलिए उन्होंने पैसे लेने से इंकार कर दिया और महिला से अनुरोध किया कि इतनी ज्यादा रकम वो कैश के रूप में ना देकर उनके लिए एक घर बनवा दे और और उसके बच्चों की फीस व बकाया बिल भर दे।

मबेले ने निभाया अपना फर्ज :

मबेले का कहना है कि, मैंने वही किया है जो मुझे करना चाहिए था इसके साथ ही उन्होंने कहा, अगर मेरी जगह कोई और होता तो वह यही करता जो मैंने किया है। मबेले का मानना है श्वेत-अश्वेत जैसी कोई भी चीज नही होती। सभी को एक साथ मिलकर रहना है इसलिए हमे ऐसे हालातों में दूसरों की सहायता के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए।

From Around the web