Navaratri Special- उपवास कर रहे हैं आप तो इस तरह करें थकान को दूर, जानिए आसान उपाय

 
सुस्ती

लगातार नौ दिनों तक उपवास करने के बाद पित्त को बढ़ाना आसान है, इसलिए यदि हम शुरू से ही आहार के साथ-साथ हल्के व्यायाम पर ध्यान दें, तो हम पित्त वृद्धि से खुद को बचा सकते हैं और अपने स्वास्थ्य को संतुलित रखकर आदिमाया का शरद नवरात्रि बड़े आनंद के साथ मना सकते हैं। . इस अभ्यास में हम थोड़ा प्राणायाम, थोड़ा आसन कर सकते हैं। आज हम प्राणायाम के बारे में जानेंगे। आदत न भी हो तो व्रत के दौरान थोड़ी मात्रा में और प्राणायाम करें तो अवश्य ही लाभ होगा। प्राणायाम को लेकर कुछ नियमों का पालन करना बेहद जरूरी है। 

प्राणायाम


प्राणायाम करना- प्राणायाम खुले, साफ और हवादार कमरे में करना चाहिए। प्राणायाम आमतौर पर सुबह के समय किया जाता है। लेकिन अगर आप आश्वस्त नहीं हैं, तो भोजन के पांच घंटे बाद खाली पेट इसे करना सबसे अच्छा है। प्राणायाम के बाद योग करना चाहिए। प्राणायाम से पहले पेट साफ होना चाहिए व्यायाम के आधे घंटे बाद नहाना ठीक है और आधे घंटे के बाद नाश्ता भी करना चाहिए। प्राणायाम करते समय सुखासन या पद्मासन में होना चाहिए। जो लोग जमीन पर नहीं बैठ सकते उन्हें स्टूल या कुर्सी पर बैठकर प्राणायाम करने में कोई आपत्ति नहीं है। लेकिन किसी भी स्थिति में रीढ़ की हड्डी सीधी रहनी चाहिए। कंधों को पीछे खींच लेना चाहिए। और सिर का पिछला भाग और पीठ एक सीध में होना चाहिए। 

प्राणायाम


प्राणायाम करते समय अपनी आंखें बंद रखें और अपनी आंखों को भौहों पर यानि दोनों भौहों के बीच में रखें। प्राणायाम करते समय शरीर पर किसी प्रकार का तनाव न आने दें। चेहरे, आंख, नाक की अनावश्यक गतिविधियों से बचें। बीमार होने पर गर्भवती महिलाओं को प्राणायाम नहीं करना चाहिए अनुलोम विलोम प्राणायाम दाहिने हाथ के अंगूठे और अनामिका और मध्यमा अंगुली का उपयोग किया जाता है। 

From Around the web