Health- ये दो चीजें आपके दिल के लिए हैं बेहद हानिकारक, अगर आप भी इसका सेवन करते हैं तो पहले पढ़ लें

 
हर्ट

शरीर को स्वस्थ रखने में चीनी या नमक अहम भूमिका निभाता है। इन तत्वों का अधिक और कम सेवन शरीर के लिए हानिकारक होता है। शरीर में नमक और चीनी की असंतुलित मात्रा कई समस्याओं को जन्म दे सकती है। आइए जानें कि दोनों में से किसका हृदय स्वास्थ्य पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ता है।

नमक

हर्ट पर नमक का प्रभाव- जब हम रक्तचाप या हृदय रोग के बारे में सोचते हैं, तो इसकी शुरुआत आहार नमक से होती है। बहुत से लोग इन समस्याओं से बचने के लिए लो-सोडियम डाइट फॉलो करते हैं। हालांकि, आहार में सोडियम कम करने से दिल को कोई खतरा नहीं होता, यह समाज पूरी तरह से गलत है। कम सोडियम का सेवन भी कुछ लोगों में उच्च रक्तचाप का कारण बन सकता है। हालांकि, कुछ लोगों में सोडियम की कमी से रक्तचाप बढ़ता पाया गया है। कम सोडियम हृदय गति और हृदय गति को भी बढ़ाता है। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के अनुसार, एक व्यक्ति को एक दिन में 1.5 ग्राम से कम नमक नहीं खाना चाहिए अन्यथा दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है। वहीं, 50 वर्ष से अधिक उम्र के और मधुमेह के रोगियों को प्रतिदिन 1.5 ग्राम से अधिक नमक का सेवन नहीं करना चाहिए।

चीनी

हर्ट पर चीनी का प्रभाव- डिब्बाबंद खाद्य पदार्थों में 75 प्रतिशत कृत्रिम चीनी होती है। ज्यादा चीनी का सेवन करने से हॉर्मोन्स डैमेज हो जाते हैं। जिससे न सिर्फ डायबिटीज बल्कि हाई ब्लड प्रेशर भी बढ़ने की संभावना है। जो लोग अपनी दैनिक कैलोरी का 25 प्रतिशत या उससे अधिक चीनी के माध्यम से उपभोग करते हैं, उनकी दैनिक कैलोरी का 10 प्रतिशत से कम उपभोग करने वालों की तुलना में दिल का दौरा पड़ने से मरने की संभावना 3 गुना अधिक होती है। अत्यधिक चीनी के सेवन से मोटापा, दांतों की समस्या, उच्च रक्तचाप और हृदय रोग हो सकता है। हालांकि, अमेरिकी संचालन समिति ने कहा है कि नमक चीनी से ज्यादा हानिकारक है और खाद्य उद्योग को सोडियम के स्तर को कम रखने के लिए कहा है। कम सोडियम वाले खाद्य पदार्थ आपके शरीर को उतना ही प्रभावित करते हैं जितना कि अधिक चीनी खाने से। उच्च मात्रा में चीनी खाने से उच्च रक्तचाप, हृदय रोग और जल्दी मृत्यु का खतरा बढ़ जाता है।

शरीर को सोडियम और चीनी की संतुलित मात्रा प्राप्त करने में मदद करने के लिए, प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ पूरी तरह से खाने से बचें। इसके बजाय प्राकृतिक खाद्य पदार्थ खाएं जिनमें नमक और मिठाई कम हो। पौधों के खाद्य पदार्थों में, सोडियम पोटेशियम द्वारा संतुलित होता है। तो पानी, फाइबर और अन्य तत्व भी प्राकृतिक चीनी की सही मात्रा प्रदान करते हैं। रक्तचाप को नियंत्रित करने और स्वस्थ रहने के लिए आहार में ताजे फल और सब्जियां खाएं।

From Around the web