Health- सिर्फ पेट ही नही और भी कई बीमारियों से निजात दिलाता है पपीता, जानिए

 
पपीता

पपीते का पौधा इतना फायदेमंद होता है कि इसके पत्ते, जड़, डंठल और बीज शरीर के कई रोगों में काम आते हैं। पपीते के नियमित सेवन से पेट की गंभीर समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है चाहे वह पेट में आंतों की समस्या हो या लीवर की। ऐसे में पपीते का असली कारण क्या है? साथ ही जानिए शरीर की किन समस्याओं के लिए पपीते का इस्तेमाल किया जा सकता है। पपीते में फाइबर, कैरोटीन, विटामिन सी, ई, ए और कई अन्य खनिज होते हैं जो शरीर को स्वस्थ रखने के लिए बहुत जरूरी हैं। पपीता विटामिन सी के साथ-साथ विटामिन ए से भी भरपूर होता है जो दृष्टि बढ़ाने के लिए उपयोगी है। 

पपीता


पपीते का महत्व उस समय से जाना जाता है जब दक्षिण अफ्रीका में लोग अल्सर और घावों के इलाज के लिए पपीते के गूदे का इस्तेमाल करते थे। ऐसा करने से घाव ठीक हो गए। इसलिए पपीते को सुनहरे पेड़ का सुनहरा फल कहा जाता है। इसे प्रकृति का अनमोल उपहार भी माना जाता है। पपीते में पपैन नाम का पदार्थ होता है, जो पेट के मांस को पचाने में काफी कारगर होता है। भारी खाद्य पदार्थों को आसानी से पचाने की क्षमता पपीते की विशेषता है, जो इसे अन्य फलों से अलग गुण प्रदान करती है। पपीते के बीज औषधि के काम आते हैं। पपीते के फ्रूट सलाद कई तरह के बनाए जाते हैं। इसलिए अगर आप इसका एक टुकड़ा भी खाते हैं तो यह आपके दांतों और हड्डियों के रोगों के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है।
पपीते में विटामिन ए, आयरन और विटामिन सी, कैल्शियम और पोटेशियम होता है। पपीते को खास फल बनाने में इसकी अहम भूमिका होती है। साथ ही पपीते के गूदे को चेहरे पर लगाने से चेहरे पर निखार आता है। इसके अलावा, पपीता पाचन क्रिया को बेहतर बनाने के लिए पेट की बीमारियों को ठीक करने के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। विटामिन सी की कमी से स्कर्वी होता है। कहा जाता है कि मशहूर पर्यटक मार्को पोलो और उनके साथियों को दांतों और हड्डियों में स्कर्वी हो गई थी। उनके दांतों से खून बहना बंद नहीं हुआ और हड्डियों की समस्या बढ़ गई तो पपीते के सेवन से सभी साथी स्वस्थ हो गए। स्वाभाविक रूप से, पपीता स्कर्वी से राहत दिलाने में महत्वपूर्ण है। 

पपीता


पेट में भारीपन होने पर पपीता फायदेमंद होता है। पपीते की विशेषता यह है कि यह एक व्यक्ति में अद्वितीय ऊर्जा पैदा कर सकता है और उसके जीवन को लम्बा खींच सकता है। इसलिए इसे जीवन का फल और सुनहरे पेड़ का सुनहरा फल भी कहा जाता है। बच्चों की डाइट में पपीते को शामिल करना उनकी अच्छी सेहत के लिए जरूरी माना जाता है। कहा जाता है कि जब कोलंबस ने अमेरिका की खोज की तो वहां के लोगों को देखकर वह हैरान रह गए। उसने वहाँ के लोगों को बहुत अधिक मांस और मछली खाते हुए पाया, लेकिन उन्हें अपने पेट में कोई असुविधा या भारीपन महसूस नहीं हुआ। दरअसल, खाने के साथ पपीता खाने की प्रथा थी इसलिए वहां के लोगों की पाचन क्रिया बहुत तेज होता है।

From Around the web