Health- सुबह कि सैर में कैसे चलते हैं आप, जानिए आपकी चलने की शैली गलत है या सही

 
सुबह की सैर

शरीर को तंदुरुस्त रखने के साथ-साथ उसे कई तरह की बीमारियों से बचाने के लिए रोजाना व्यायाम करना जरूरी है। तो आपने सभी स्वास्थ्य विशेषज्ञों को यह सलाह देते हुए देखा होगा कि आपको हर दिन टहलना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से व्यक्ति के मोटापे, मधुमेह, पेट और हृदय रोग के जोखिम को कम किया जा सकता है। लेकिन इन बीमारियों से बचाव और शरीर को स्वस्थ रखने के लिए न सिर्फ चलना, बल्कि सही तरीके से चलना भी जरूरी है। लेकिन आप शायद नहीं जानते होंगे कि यह चलने का एक तरीका है, लेकिन ज्यादातर लोग जानकारी के अभाव में गलत तरीके से चलते हैं, जिससे उन्हें चलने का पूरा फायदा नहीं मिल पाता है। 

सैर


आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि चलने का सही तरीका क्या है तो अगर आप अभी भी गलत रास्ते पर चल रहे हैं तो इस खबर को पढ़ें और सही रास्ते पर चलने से शरीर को फायदा होने दें। एक अंग्रेजी वेबसाइट ब्रीदिंग, मोबिलिटी और माइंड-बॉडी कोच डाना सैंटस ने कहा कि लोग चलते समय शरीर का संतुलन नहीं बनाए रखते हैं। नतीजतन, उनके शरीर की स्थिति बिगड़ जाती है और उन्हें घुटनों, कमर, पैरों आदि में दर्द की शिकायत होती है। ज्यादातर लोग शरीर के एक तरफ झुक जाते हैं या हमेशा अपने हाथों का इस्तेमाल बैग टांगने, मोबाइल पकड़ने या सामान लेने के लिए करते हैं, ताकि आप अपने हाथों से स्वतंत्र रूप से या स्वतंत्र रूप से न चलें।
फिटनेस कोच के अनुसार चलते और दोनों हाथों को घुमाते समय आपको हमेशा अपने शरीर को सीधा रखना चाहिए। हाथ घुमाने का मतलब है कि चलते समय दोनों हाथ आगे-पीछे होने चाहिए। लेकिन याद रखें कि जब आपका एक हाथ सामने हो तो दूसरा हाथ पीछे होना चाहिए। यानी दोनों हाथ विपरीत दिशाओं में चलने चाहिए। चलने के इस तरीके के साथ-साथ चलने के कुछ अन्य जरूरी टिप्स का भी ध्यान रखना चाहिए। 

सैर


चलते समय बैग को उठाने और मोबाइल या किसी अन्य वस्तु को उठाने के लिए हर बार दोनों हाथों या कंधों का इस्तेमाल करना चाहिए। कुछ महीनों के बाद अपने जूतों के तलवों की जांच करें। क्योंकि, एक तरफ झुक जाने से आपका एक जूता ज्यादा खराब हो जाता है। जो शरीर के एक तरफ अधिक तनाव डालता है। अगर आपका कोई जूता बहुत ज्यादा घिसा हुआ है तो जूते बदल दें। शरीर के संतुलन को बेहतर बनाने के लिए विशेषज्ञ एक अंग के एकतरफा व्यायाम करने की सलाह देते हैं। जो शरीर के संतुलन को बेहतर बनाने के साथ-साथ पैरों को भी मजबूत बनाता है।

From Around the web