मैं सिर्फ अपने रैकेट से जवाब देती हूं..ऐसा क्यों कहा पी.वी. सिंधु ने, जानिए कारण

 
पीं वी सिंधु

पी. वी सिंधु ओलंपिक में भारत का गहना है। क्रिकेट के अलावा अन्य खेलों के खिलाड़ियों को ग्लैमर बहुत कम मिलता है। ऐसे ही कुछ खिलाड़ियों में से एक हैं पी. वी सिंधु। हाल ही में टोक्यो ओलंपिक में उनके शानदार प्रदर्शन ने उनकी लोकप्रियता में इजाफा किया है। ओलिंपिक में दूसरी बार मेडल जीतने वाले पी. वी सिंधु पहली भारतीय महिला खिलाड़ी हैं। इसके अलावा पी.एस. वी सिंधु को देखा जाता है। उनका सफर भी आसान नहीं था। उसे भी कई मुश्किलें आईं। लेकिन उन्होंने अपने इंटरव्यू में बार-बार बताया है कि कैसे उन्होंने हर मुश्किल को पार किया। मेरे पास जवाब देने के लिए रैकेट मेरे हाथ में सबसे अच्छा साधन है, वह कहती हैं।

पी वी सिंधु

उन्होंने टोक्यो ओलंपिक को याद करते हुए कहा कि जब मैं सेमीफाइनल मैच हार गई और मेरी रजत पदक की उम्मीदें धराशायी हो गईं, तो मैं बहुत परेशान थी। लेकिन मेरे प्रशिक्षकों ने मुझे एक बार में एक वाक्य सुनाया, और वह ओलंपिक में चौथे स्थान पर रहने और तीसरे स्थान पर कांस्य पदक जीतने के बीच का अंतर था। उस कठिन परिस्थिति में यह वाक्य बहुत महत्वपूर्ण था। यह स्पष्ट था कि स्वर्ण और रजत पदक नहीं जीते जा सके। लेकिन वह यह सोचकर थक चुके थे कि वह फिर से कांस्य पदक के लिए लड़ेंगे। लेकिन वह समय रहते ठीक हो गया और रैकेट लेकर फिर से जमीन पर पहुंच गया। आपके जीतने या हारने का अहसास बहुत बाद में और बहुत अलग होता है। लेकिन इतने कठिन समय में जीवित रहना वाकई मुश्किल है।

पी वी सिंधु

पी. वी सिंधु का कहना है कि जब लोग आपकी तारीफ कर रहे हों, जब आपके देश के लड़के-लड़कियां आपके जैसा बनने का सपना देख रहे हों, तो यह अहसास बहुत अच्छा होता है। लेकिन इस सब में एक तरफ और मैदान पर आपकी लड़ाई के बीच एक बड़ा अंतर है। मैंने पहली बार रियो ओलंपिक जीता था। लेकिन इस जीत ने टोक्यो ओलंपिक में मुझसे काफी उम्मीदें जगाई थीं। हर कोई इस ओलंपिक में सिंधु से पदक पाने की उम्मीद कर रहा था। इसलिए इस सारे जुल्म में मैंने इस साल खेला। मुझे नहीं पता था कि मैं जीतूंगा या हार जाऊंगा। सिंधु ने कहा, मैं बस इतना जानती थी कि बस रैकेट के साथ खेलना और रैकेट के जरिए सभी सवालों के जवाब देना है।

From Around the web