Vastu tips : ये वास्तु उपाय आपकी आर्थिक समस्याओं को कम करने में करेंगे मदद !

ty

हमारे जीवन का पैसा एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और हम सभी अच्छे भविष्य के लिए आय का अच्छा प्रवाह बनाने के लिए संघर्ष करते हैं। पैसा सब कुछ नहीं है, मगर फिर भी बहुत अधिक मूल्य रखता है क्योंकि हमें खरीदने की क्षमता और स्वतंत्रता मिलती है। वास्तु शास्त्र आपके वित्तीय विकास को बेहतर बनाने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है। वास्तु 3 क्षेत्रों के माध्यम से धन को दर्शाता है।

fg

पहला उत्तर--धन संचय का स्थान है। दूसरा, दक्षिणपूर्व (अग्नि कोण) भी बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह हमारे नकदी की तरलता को नियंत्रित करता है। ऐसे लोग हैं जिनके पास बहुत सारी अचल संपत्तियां हैं मगर उनके पास चल नकदी उपलब्ध नहीं है। उनके पास पर्याप्त कैश नहीं है. तीसरा क्षेत्र जो धन को दर्शाता है वह है ईशान कोण यह समृद्धि, धन और समग्र विकास लाता है।

1- उत्तर, बुध द्वारा शासित

आपकी जानकारी के लिए बता दे की, बुध का रंग हरा है और उत्तर दिशा में इसका प्रयोग करने से धन की वृद्धि होती है। यह पेंटिंग, दीवार के रंग और वॉलपेपर के माध्यम से किया जा सकता है। यह सफेद होना चाहिए और आकार में बहुत बड़ा नहीं होना चाहिए। दर्पण का उपयोग उत्तर क्षेत्र में भी किया जा सकता है क्योंकि यह ऊर्जा को दोहराता है, जो धन के दोहरे प्रवाह को दर्शाता है। आप पारा यंत्र भी रख सकते हैं।

gfg

2- आग्नेय, शुक्र द्वारा शासित

दक्षिण-पूर्व क्षेत्र में, ग्रह शुक्र है इसलिए यदि आप शुक्र यंत्र लगाते हैं तो यह आपके घर में धन, विलासिता और समृद्धि लाता है। इस दिशा में भी लाल रंग की उचित मात्रा का ही प्रयोग करना चाहिए। बता दे की, नकद तरलता बढ़ाने के लिए आप इस क्षेत्र को सक्रिय करने के लिए लाल बल्ब लगा सकते हैं।

fg

3- ईशान कोण, बृहस्पति द्वारा शासित

अपने पूर्वोत्तर क्षेत्र को उज्ज्वल और स्वच्छ रखें। इस दिशा को अव्यवस्थित न करें। हम इस दिशा में दर्पण का उपयोग भी ऊर्जाओं की नकल करने के लिए कर सकते हैं। ईशान कोण पर बृहस्पति (गुरु) का शासन है, इसलिए इस दिशा में पीले रंग का प्रयोग करें। बृहस्पति यंत्र को भी इस क्षेत्र में रखा जा सकता है।

From Around the web