Recipe: व्रत में इस तरह बनाये साबूदाने और बूदाने और आलू (बटाटा) चकली

g

सावन का महीना चल रहा है इस महीने में ज्यादातर लोग व्रत रखते हैं। व्रत में ज्यादातर साबूदाने और फलों का उपयोग किया जाता है। आप साबूदाने और आलू (बटाटा) चकली बनाकर धूप में सुखाकर स्टोर करके भी रख सकते हैं। इसे बनाना बेहद आसान हैं और इसे आप व्रत के दौरान पूरे साल भर कभी भी तेल में तलकर खा सकते हैं। यह क्रिस्पी और बेहद स्वादिष्ट होने के कारण हर कोई इसे पसंद करता है। साबूदाना बटाटा चकली गर्मियों में उपवास के दौरान खाया जाने वाला एक विशेष व्यंजन है। बच्चे हों या बड़े, हर कोई इसे कभी भी खाना पसंद करेगा, तो आइये जानते हैं इसे बनाने की विधि... 

आवश्यक सामग्री :
साबूदाना – 1 कप
आलू (मध्यम आकार के) – 3
अदरक-मिर्च पेस्ट – 1 चम्मच
जीरा साबुत – 1 चम्मच
नमक – स्वादानुसार

बनाने की विधि :
सबसे पहले साबूदाना को अच्छी तरह साफ़ पानी से 2-3 बार धो लीजिये और उसमें पानी डालकर इसे एक घंटा भिगोकर रख दीजिए।
एक घंटे बाद उसमें से सारा पानी निथारकर इसे रातभर के लिए ढंककर रख दें।
सुबह साबूदाना अच्छी तरह फूलकर सॉफ्ट हो जाएगा।
अब आलू को कुकर में डालकर उबाल लीजिए।
इसके बाद उबले आलू को ठंडाकर, छीलकर इसे कद्दूकस कर लीजिए।
अब साबूदाना को मिक्सचर जार में डालकर हल्का दरदरा पीस लीजिए।
इसके बाद पिसे साबूदाना, कद्दूकस आलू और साबुत जीरा, हरी मिर्च-अदरक पेस्ट, स्वादानुसार नमक डालिए।
अब अच्छी तरह मिलाकर मिश्रण को गूंथ लीजिए।
अब चकली बनाने के लिए सांचे के अंदर की सतह पर घी लगाकर चिकना कर लीजिए।
और इसमें मिश्रण भरकर सांचा बंद कर लीजिए।
अब एक प्लास्टिक पेपर या थाली पर गोल-गोल आकार में घुमाते हुए चकली बना लीजिए।
सारी चकली इसी तरह बनाकर तैयार करके इसे धूप में अलट-पलटकर 2-3 दिन तक सुखा लीजिए।
जब चकली अच्छी तरह सूख जाए तो उसे एयर टाइट डिब्बे में भरकर रख लीजिए।
इसे आप व्रत-उपवास में या कोई मेहमान आये तो डीप फ्राई कर लीजिये और स्वाद लेकर खाइए।

From Around the web