रोचक खबरे

लॉकडाउन में चली गई नौकरी तो दिव्यांग बन गया ‘आत्मनिर्भर’

लॉकडाउन में चली गई नौकरी तो दिव्यांग बन गया ‘आत्मनिर्भर’

आज के समय में, कई कहानियाँ हैं जो लोगों में आशा जगाती हैं और उन्हें आत्मनिर्भर बनने के लिए मजबूर करती हैं। आज हम आपको एक ऐसी ही कहानी बताने जा रहे हैं। भारत सरकार ने कोविद -19 के प्रसार को रोकने के लिए मार्च में तालाबंदी की थी। लॉकडाउन के कारण लाखों लोगों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा और लाखों लोगों को शहरों से अपने घरों को लौटने के लिए मजबूर होना पड़ा। इस बीच, कई लोग थे जो आत्मनिर्भर हो गए।

एक आदमी अश्विन ठक्कर ठक्कर अहमदाबाद का रहने वाला है। एक समाचार वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, अश्विन ठक्कर अंधे हैं और उन्होंने अहमदाबाद के एक होटल में टेलीफोन ऑपरेटर के रूप में काम किया। मई-जून के दौरान, अश्विन ने कच्चे आम बेचना शुरू किया, और फिर उन्होंने गुजराती साँपों को बेचने का व्यवसाय शुरू किया।

loading...

अश्विन ने समाचार वेबसाइट को बताया, “मैंने पहले कभी कारोबार नहीं किया था और मुझे नहीं लगता था कि मेरा कारोबार इतने दिनों तक चलेगा।” मैंने कैरी के साथ शुरुआत की, फिर, और अब मैं गुजराती स्नैक्स बेच रहा हूं। अंधा होने के कारण, सामान पहुंचाना मेरे लिए कठिन था, लेकिन दृढ़ इच्छाशक्ति के साथ, मैं व्यवसाय में सफल रहा। मेरी पत्नी भी मेरा समर्थन करती है। हम दशहरा और दिवाली पर एक मिठाई स्टाल खोलने की सोच रहे हैं। अश्विन ठक्कर अपनी पत्नी गीता के साथ घर का बना स्नैक्स बेचता है, और परिवार इन सामानों को बेचने के बाद मिलने वाले पैसे से समाप्त होने की कोशिश कर रहा है। इस तरह, अश्विन और उनकी पत्नी ने आत्मनिर्भर बनकर लोगों के लिए एक बेहतरीन मिसाल कायम की।

248 views
loading...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

16 − five =

To Top