Health- मनुष्य के स्वास्थ्य के लिए वरदान है ्अंगूर, कैंसर से लड़ने में हैं कारगर

 
अंगूर

सर्दियों का मीठा अंगूर एक ऐसा फल है जो हर किसी को पसंद होता है। अंगूर में बीज या छाल नहीं होती है। हल्के से दबाने पर ये मुंह में घुल जाते हैं। अंगूर में कई पोषक तत्व, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं। आपको पता होना चाहिए कि अंगूर शरीर में कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है। अंगूर की छाल की बाहरी परत में रेस्वेराट्रोल एंटीऑक्सिडेंट और कर्सीटिन एंटी-इंफ्लेमेटरी घटक होता है, जिसमें कैंसर विरोधी गुण होते हैं। ये कारक प्रोस्टेट, स्तन और फेफड़ों के कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकते हैं। रेस्वेराट्रोल सूरज की हानिकारक यूवीबी किरणों से होने वाले त्वचा कैंसर के खतरे को कम करता है। 
मधुमेह में है फायदेमंद-  अंगूर में हारोस्टिलवेन नामक एंटीऑक्सीडेंट होता है जो रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है। सप्ताह में 2-3 बार अलग-अलग रंग के अंगूरों का एक कटोरा खाने से टाइप 2 मधुमेह होने की संभावना 70% तक कम हो जाती है। 

अंगूर


दूरा हृदय रोग से बचाता है-  अंगूर में क्वेरसेटिन, एंटी-इंफ्लेमेटरी फ्लेवोनोइड्स, पॉलीफेनोल्स जैसे तत्व लिपोप्रोटीन यानी खराब कोलेस्ट्रॉल यानी एलडीएल को नियंत्रित करते हैं। काले अंगूर में ओरोस्टिलवेन एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है। इसका रस पीने से रक्त में नाइट्रिक एसिड के स्तर को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। जो ब्लड क्लॉटिंग को रोकता है। काले अंगूर का रस हृदय रोग के लिए एस्पिरिन की गोलियों की तरह ही काम करता है। 
 खून की कमी को करता है दूर- आयरन से भरपूर पित्त के नियमित सेवन से शरीर में खून की कमी दूर होती है। नियमित रूप से एक छोटा कप अंगूर या एक गिलास अंगूर का रस पीने से थकान और कमजोरी दूर होती है। एनीमिया के मरीजों के लिए एक कप जूस में दो चम्मच शहद मिलाकर पीने से लाभ होता है। 

अंगूर


पेट भरा हुआ महसूस होना-  अंगूर एक आदर्श फल है। यह फाइबर में उच्च है और कोई वसा नहीं है। इसलिए एक कप अंगूर खाने के बाद काफी देर तक पेट भरा हुआ महसूस होता है। 
एनर्जी बूस्टर- अंगूर में मौजूद फ्रुक्टोज और ग्लूकोज रक्त में आसानी से अवशोषित हो जाते हैं। यह थकान को जल्दी दूर कर शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है। 
अपच की समस्या को दूर करता है दूर- अंगूर के सेवन से पाचन तंत्र मजबूत होता है क्योंकि यह फाइबर और ग्लूकोज से भरपूर होता है। इसमें कार्बनिक अम्ल, सेल्युलोज और पोलियो होते हैं। 

From Around the web