काला चावल है सुपरफूड, 5 वजहों से हमेशा डाइट में शामिल करना चाहिए काला चावल

 
काला चावल

हम हाथ से बने चावल जानते हैं, हम जैविक रूप से उगाए गए चावल खाते हैं, हम भी कभी-कभी स्वास्थ्य के लिए ब्राउन राइस का उपयोग करते हैं, लेकिन क्या आपने कभी काले चावल के बारे में सुना है? यह कैसा चावल है? दरअसल, सभी तरह के चावलों में ब्लैक राइस को चावल की सबसे पौष्टिक किस्म माना जाता है। इस चावल को सुपरफूड कहा जाता है। भारत में, यह काला चावल केवल पूर्वोत्तर भारत में बढ़ता है, खासकर मणिपुर में। वहां इस चावल को 'चक-हवो' कहा जाता है। जानकारों के मुताबिक चावल उगाना मुश्किल है लेकिन इस चावल के फायदे कई हैं। 

काला चावल


काले चावल में 123 प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। किसी अन्य प्रकार के चावल में इतने अधिक एंटीऑक्सीडेंट नहीं होते हैं। इसके अलावा चावल प्रोटीन, फाइबर और आयरन से भरपूर होता है। यह चावल फ्लेवोनोइड्स से भरपूर होता है। तो यह शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में मदद करता है और चावल के ये गुण शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करते हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि काले चावल एंथोसायनिन से भरपूर होते हैं। कई अध्ययनों ने निष्कर्ष निकाला है कि एंथोसायनिन युक्त खाद्य पदार्थ खाने से कैंसर का खतरा कम होता है। 

काला चावल


काला चावल आंखों की सेहत के लिए भी अच्छा होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि एंटीऑक्सिडेंट ल्यूटिन और ज़ेक्सैंथिन आंखों को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाते हैं। काले चावल खाने से उतनी भूख नहीं लगती जितनी फाइबर से भरपूर होने के साथ-साथ प्रोटीन से भी भरपूर होती है। इसलिए यह चावल वजन घटाने के लिए उपयोगी माना जाता है। काले चावल से खीर, बिरयानी जैसे खाद्य पदार्थ बनाए जा सकते हैं। जानकारों का कहना है कि भीगे हुए काले चावल के पानी का इस्तेमाल चावल के पेय बनाने में फायदेमंद होता है। 

From Around the web